छतरपुर में मिली अमेरिका की अमेजन नदी में पाई जाने वाली खतरनाक मछली
बुंदेलखंड के छतरपुर शहर में स्थित विंध्यवासिनी मंदिर के पास स्थित तालाब में सफाई चल रही है।
बीते रोज तालाब जलकुंभी निकालने के लिए मछुआरों द्वारा डाले गए जाल में एक अजीब भयानक सी दिखने वाली मछली फंस गई।
बुंदेलखंड के छतरपुर शहर में स्थित विंध्यवासिनी मंदिर के पास स्थित तालाब में सफाई चल रही है।
बीते रोज तालाब जलकुंभी निकालने के लिए मछुआरों द्वारा डाले गए जाल में एक अजीब भयानक सी दिखने वाली मछली फंस गई।
मछुआरों के अनुसार जीवन में पहली दफा देखी ऐसी मछली मछुआरे के अनुसार उसने 42 साल में पहली दफा इस तरह की मछली देखी है।
जीव- जंतुओं के जानकार बताते हैं कि यह सकरमाउथ कैटफ़िश ( Suckermouth Catfish) है, यह प्रजाति भारत के अंदर नहीं पाई जाती हैं।
यह दक्षिण अमेरिका स्थित अमेजन नदी में बहुतायत मिलती है।
मछली को तालाब में वापस छोड़ दिया गया।
सकरमाउथ कैटफ़िश अमेजन नदी में पाई जाती है। इसकी फूड वैल्यू कुछ नहीं है, जबकि यह मछली अन्य मछलियों जीव- जंतुओं के लिए खतरा है।
बीते नवंबर महीने में बिहार के गोपालगंज जिले के डुमरिया गांव की गंडक नदी में मछुआरों के जाल में बिलकुल ऐसी ही सकर माउथ कैटफिश फंसी थी।
इसके पूर्व बिहार के ही बगहा में अक्टूबर महीने में यह मछली नदी से मिली चुकी है।
सवाल यह हजारों किलोमीटर दूर यहां यहां कैसे पहुंची प्रजाति? प्राणी शास्त्र विभाग के लिए यह रिसर्च और चिंता का विषय बन गया है।
इसका जवाब फिलहाल तक तो सामने नहीं सका कि भारत से हजारों किलोमीटर दूर दक्षिण अमेरिका के अमेजन नदी में पाई जाने वाली यह खतरनाक, मांसाहारी सकरमाउथ कैटफ़िश गई।
By Chaitanyadas Soni Oneindia source: oneindia.com Dailyhunt