Life Insurance पर ले रहे लोन तो पहले जानिए क्या हैं इसके फायदे और नुकसान
अधिकाश बैंक उन लोगों को लोन देना पसंद करते है। जो लोग लोन के बदले संपति कोलैटरल के रूप में रखते है।
कोलैटरल बैंक के लिए एक सुरक्षा जाल के रूप में काम करता है, जब लोन लेने वाला लोन की राशि को वापस नहीं कर पाता है।
ये साधारण सी बात है कि एफडी और घर कोलैटरल के रूप में काम कर सकते है।
लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी आपको आवश्यक धन को सुरक्षित रखने में सहायता कर सकती है। कई बार ऐसे लोन लेने के लिए विचार करते हैं।
जब उनको इंस्टेंट काफी बड़ी राशि की लोन के रूप में जरूरत होती है।
अगर आप कोलैटरल के रूप में रखकर रिस्क नहीं लेना चाहते हैं।
अगर आप जीवन बीमा को कोलैटरल के रूप में रखकर लोन लेते है, तो फिर आपको कम और सस्ती ब्याज दरों में लोन का फायदा उठा सकते।
नई पॉलिसी को कर देयता लाइफ इंर्टश्योरेंस की जो आय है। वो देश में टैक्स से मुक्त है।
हालांकि, इन्वेस्ट नकद मूल्य खाते पर जो पूंजीगत उपज के परिणामस्वरूप टैक्सेबल हो सकती है।
By Ritesh Pateliya Goodreturns source: goodreturns.in Dailyhunt