तेरह गांवों की 370 एकड़ भूमि में होगा Varanasi Airport का विस्तार, शासन को भेजी रिपोर्ट
वाराणसी के लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे के विस्तारीकरण को लेकर पिछले 7 साल से प्रक्रिया चल रही है।
कई बार मास्टर प्लान तैयार किया गया और उसमें बदलाव भी किए गए। अब एक बार फिर Varanasi Airport विस्तारीकरण का मामला सुर्खियों में है।
पिछले माह वाराणसी एयरपोर्ट पर भूमि सीमांकन कराई गई थी।
एयरपोर्ट के अधिकारियों का कहना है कि भूमि की कमी होने के चलते वाराणसी एयरपोर्ट का विस्तार नहीं हो पा रहा है।
वर्तमान में रनवे की लंबाई 2745 मीटर है, जिसके चलते बड़े बोइंग और एयरबस विमानों की लैंडिंग और टेकऑफ वाराणसी एयरपोर्ट पर नहीं हो पाती है।
वाराणसी एयरपोर्ट के विस्तार के लिए पिंडरा तहसील के राजस्व कर्मियों द्वारा वाराणसी एयरपोर्ट से सटे 13 गांव में जमीन चिन्हित की गई है।
एक माह तक यहां पर सर्वे कराया गया। सर्वे में दो फेज में वाराणसी एयरपोर्ट पर भूमि अधिग्रहण किए जाने की बात सामने रही है।
वाराणसी एयरपोर्ट की स्थापना को लेकर कोई थी। उसके बाद 1953 में वाराणसी एयरपोर्ट पर पुराने टर्मिनल का निर्माण हुआ।
पुराने टर्मिनल भवन में एक समय में केवल 200 यात्रियों का आवागमन हो सकता था।
नेशनल हाईवे वाराणसी एयरपोर्ट पर रनवे की लंबाई बढ़ाए जाने के चलते हाईवे को टनल से गुजारा जाएगा।
एयरपोर्ट के पूर्वी तरफ रेलवे लाइन होने के चलते उधर रनवे का विस्तार नहीं किया जा सकता है ऐसे में पश्चिमी तरफ ही रनवे बढ़ाया जाएगा।
पश्चिम तरफ एयरपोर्ट से सटकर नेशनल हाइवे 56 गया हुआ है।
By Pravin Kumar Yadav Oneindia source: oneindia.com Dailyhunt