डेंगू, चिकनगुनिया और जीका वायरस में क्या अंतर है? जानिए लक्षण और बचाव के उपाय
जीका वायरस, डेंगू या चिकनगुनिया ये तीनों ही मच्छर के द्वारा होने वाली बीमारी है।
जो एक ही दिन काटने वाले एडीज एजिप्टी और एडीज अल्बोपिक्टस मच्छरों द्वारा होता है।
डेंगू एक मच्छर आर्थ्रोपोड्स से फैलने वाला रोग है जो गंभीर बीमारी का कारण बनता है।
पूरी दुनिया में एक अनुमान के आधार पर 2 .5 अरब लोग ऐसे क्षेत्रों में रहते हैं जहां डेंगू होने का खतरा अधिक होता है।
डेंगू से दुनिया भर में प्रति वर्ष लगभग 390 मिलियन लोग संक्रमित होते हैं। उनमें से 20,000 तक लोग मर जाते हैं।
चिकनगुनिया संक्रमित मच्छर के काटने से चिकनगुनिया वायरस इंसानों में फैल जाता है।
ये CHIKV के कारण होता है, टोगाविरिडे फैमली के अल्फावायरस जीनस से संबंधित एक आरएनए वायरस।
चिकनगुनिया बीमारी में शरीर में बुखार और जोड़ों में दर्द मुख्य लक्षण हैं।
ज़ीका वायरस एक वायरल बीमारी है। इसके मुख्य लक्षणों मे बुखार आना, एक्सेंथेमा और नॉन- प्युरुलेंट कंजंक्टिवाइटिस है। ZIKV एक आरएनए वायरस है।
अमेरिका के 39 देशों में वायरस का एक्टिव ट्रासमिशन है। वहीं ब्राजील जीका के सबसे अधिक मामलों वाला देश है।
बचाव के उपाय डेंगू, चिकनगुनिया और जीका का ट्रीटमेंट मौजूद है। ये रोग आमतौर पर अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता के बिना घर पर उपचार से सही हो सकते हैं।
ज़ीका, चिकनगुनिया और डेंगू बुखार में अगर समस्या गंभीर हो जाती है, तभी अस्पताल में भर्ती के लिए चिकित्सक कह सकता है।
डेंगू और चिकनगुनिया की तुलना में जीका बच्चों और प्रेगनेंट महिलाओं में अधिक होता है। उन सभी का सबल्मेशन लगभग समान होता है।
डेंगू के मामलों में तेज बुखार, सिरदर्द और रेट्रोऑर्बिटल दर्द होता है। जीका और चिकनगुनिया के मामलों में मांसपेशियों में दर्द होता है।
जोड़ों में अत्यधिक दर्
By Asma Fatima Boldsky source: boldsky.com Dailyhunt