जापान के बाद अमेरिका भी चीनी यात्रियों की कर सकता है सख्त जांच, भारत में अभी नोटिफिकेशन का इंतजार
कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए अमेरिका ने चीन से आने वाले यात्रियों पर पाबंदियां बढ़ा दी हैं।
अमेरिकी अधिकारियों का कहना है कि वे चीन से यात्रियों के लिए कोविड एंट्री बैन करने पर विचार कर रहे हैं।
अधिकारियों कहना है कि जिस प्रकार जिनपिंग सरकार ने कोरोना नियमों में ढील दी है, उसके बाद संक्रमण बेकाबू हो गया है।
कई देशों ने चीनी यात्रियों पर लगाई प्रतिबंध अमेरिका का ये कदम जापान, भारत और मलेशिया द्वारा उठाए गए कदमों के बाद आया है।
इन देशों ने फैसला किया है कि वे चीन से आने वाले आगंतुकों के लिए कोरोना वायरस संक्रमण आवश्यक जांच करेंगे।
अमेरिका ने इस फैसले के पीछे महामारी को लेकर WHO की चेतावनी का हवाला भी दिया है।
चीन ने मंगलवार को चौंकाने वाला फैसला लेने वाले लोगों को क्वारंटाइन होने की जरूरत खत्म कर दी थी। चीन ने 8 जनवरी, 2023 से दूसरे देशों से आई थी
भारत ने भी की अनिवार्य जांच की घोषणा भारत की तरफ से कोरोना को लेकर सख्ती बरतने की बात कही जा रही है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने शनिवार को घोषणा की कि चीन सहित पांच देशों से आने वाले यात्रियों के लिए आरटी-पीसीआर जांच अनिवार्य कर दी गई है।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने कहा था कि चीन, जापान, दक्षिण कोरिया, हांगकांग और थाईलैंड से भारत आने वाले यात्रियों के लिए RT-PCR की रिपोर्ट जरूरी होगी।
एयरपोर्ट अथॉरिटी को अभी नोटिफिकेशन का इंतजार स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था कि अगर इन देशों के किसी भी यात्री में कोविड-19 के लक्षण पाए जाते हैं या पॉजिटिव रिपोर्ट आती है तो उन्हें आइसोलेशन में रखा जाएगा।
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा था कि देश में कोविड संक्रमण फैले, इसके लिए सतर्कता बरतना हमने शुरू कर दिया है।
कोरोना के बढ़ रहे मामले कोरोना का डेटा रखने वाली वेबसाइट वर्ल्डोमीटर के मुताबिक, दुनिया में अब तक 66, 24, 16, 471 मामले सामने चुके हैं।
11 जनवरी 2020 को चीन के वुहान में 61 साल के बुजुर्ग की मौत हुई थी। ये दुनिया में कोविड से हुई पहली मौत थी। अब तक लगभग 67 लाख मौत हो चुकी हैं।
भारत में कोरोना संक्रमण में 4 .47 करोड़ मामले चुके हैं जबकि 5 .31 लाख लोगों की इससे मौत हो चुकी है।
By Sanjay Kumar Jha Oneindia source: oneindia.com Dailyhunt