ऑवरग्लास सिंड्रोम क्या है? महिलाओं में इस एडिक्शन वजह हैं जानें, इन तरीकों से होता है ट्रीटमेंट
आपने महिलाओं के इस क्रेज के बारें में सुना होगा और देखा भी होगा कि वो लगातार एक्सरसाइज कर रही हैं, खाना नहीं खा रही हैं, अगर कुछ खाती हैं तो उल्टी के जरीये निकाल देती है।
इसके साथ ही पुरूष भी एब्स की चाहत में घंटों- घंटों जिम में एक्सरसाइज करने में लगे रहते हैं।
ऑवरग्लास सिंड्रोम, जिसे स्टमक ग्रिपिंग के रूप में भी जाना जाता है।
इसमें पेट में दर्द, खराब पोश्चर, और बॉडी इमेज कन्सर्न जो छोटी या पतली कमर के लिए दबाव का कारण बन सकती हैं। ऑवरग्लास सिंड्रोम के कारण क्या हैं?
कुछ लोगों में, यह सिंड्रोम खराब पेट की मांसपेशियों, की वजह से भी हो सकता है।
ऑवरग्लास सिंड्रोम अक्सर उन लोगों को हो जाता है जो अपनी पतली कमर की इच्छा रखते हैं साथ ही एब्स बनाने के लिए हैवी एक्सरसाइज करते हैं।
आवरग्लास सिंड्रोम के लक्षण क्या हैं?
- पेट में जकड़न, जी मचलाना, गैस का ज्यादा पास होना, सांस फूलना, पेट फूलना, एसिड रिफ्लक्स, उल्टी, लगातार दर्द, निगलने में कठिनाई, भूख कम लगना।
- भूख और वजन, पीठ के निचले हिस्से में दर्द और गर्दन में दर्द।
ऑवरग्लास सिंड्रोम का डायग्नोस गैस्ट्रोस्कोपी, बेरियम फूड टेस्ट से होता है।
व्यायाम जैसे कोर प्लैंक और वॉल पोस्चर कोर मसल्स को मजबूत बनाने में मदद करते हैं।
टमी टक सर्जरी जैसी पेट की सर्जरी के बाद चलने से पेट की मांसपेशियों को आराम मिलता है।
निष्कर्ष ऑवरग्लास सिंड्रोम का डायग्नोस मुश्किल हो सकता है, ये अस्थायी या फिर लंबे समय तक भी हो सकता है।
एक्सरसाइज, अपन लाइफ स्टाइल में बदलाव और फिजियोथेरेपी से ट्रामेंट से इसे सही किया जा सकता है।
नोट- अधिक जानकारी के लिए आप अपने चिकित्सक के पास जाकर इस सिड्रोंम के बारें में विस्तार से जानकारी पा सकते हैं। यहां बताई गई जानकारी सामान्य है।
By Asma Fatima Boldsky source: boldsky.com Dailyhunt