Asperger Syndrome: क्या है एस्पर्जर सिंड्रोम? जिससे कंगना रनौत और ग्रेटा थनबर्ग भी पीड़ित, जानें लक्षण
एस्पर्जर्स सिंड्रोम से ग्रसित लोगों को किसी शख्स से बात करने में दिक्कत का सामना करना पड़ता है। ऐसे लोग ज्यादा लोगों से दोस्ती नहीं कर पाते हैं।
उनको किसी से अधिक देर तक बात करने में परेशानी होती है।
एस्पर्जर सिंड्रोम क्या है, तो आप इस बात पर गौर करते होंगे कि वो दूसरे से अधिक स्मार्ट होते हैं लेकिन उनको सोशल होने में काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है।
वे किसी एक सबजेक्ट पर जुनूनी तरीके से अपना फोकस बनाकर रखते हैं।
एस्पर्जर सिंड्रोम तबतक कंट्रोल में रहता है जब तक वयस्क या बच्चे को उसके स्कूल या कॉलेज, ती वर्क प्लेस या उसकी लाइफ में किसी तरह की कोई गंभीर परेशानी ना है।
इसका एक निदान ये भी है कि इससे सिड्रोंम से ग्रस्त शख्स को उसके काम के लिए सांत्वना मिलती रहे।
इस सिंड्रोम के लक्षण ऐसे बच्चे सीधे आंखों से संपर्क नहीं बना कर सकते। बच्चा ज्यादा भीड़भाड़ में रह नहीं पाता, साथ ही वो लोगों से जल्दी घुलमिल नहीं पाता।
इस सिंड्रोम का एक लक्षण ये भी है कि वो रोबोटिक तरीके से बिहेव करने लगते हैं, किसी हंसी की बात पर मुस्कुराते या हंसते नहीं है।
कब दिखाएं बच्चे को अगर आपके बच्चें भी इस तरह के कोई लक्षण दिखाई देता है तो बच्चे को चाइल्ड स्पेशलिस्ट को जरूर दिखाएं।
इसके साथ ही आप बच्चे को आपको एक मानसिक स्वास्थ्य विशेषज्ञ के पास भी ले जा सकते हैं। जो एएसडी में स्पेशलिस्ट हो।
कंगना रनौत और ग्रेटा थनबर्ग भी इससे पीड़ित बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत भी इस एस्पर्जर सिंड्रोम बीमारी से जूझ रही हैं।
वहीं ग्रेटा थनबर्ग जो अपने इनवायमेंट चेंज को लेकर बड़े- बड़े राजनेताओं से भिड़ती हैं साथ ही शानदार स्पीच देती है।
टाइम मैग्जीन के कवर पेज पर भी चुकी हैं।( Reference- https://www.webmd.com/)
By Asma Fatima Boldsky source: boldsky.com Dailyhunt